Cleanliness Reduces Illness in Ekal Village

स्वच्छता अभियान से गाँव में कम हुई बीमारी
एकल विद्यालय ग्राम - डुमरिया, नारायणपुर संच में आता है। यह अलवर - अंचल केन्द्र से 45 किलोमीटर दूर है। यहां की भूमि मैदानी है। शिक्षा की दृष्टि से पिछड़ा क्षेत्र है। यहां के लोग खेती पर निर्भर रहते हैं। यहां गुर्जर, कोली, डाॅगुर, लखेरा जाति के लोग रहते हैं। साफ-सफाई की दृष्टि से यह क्षेत्र पिछड़ा है। 
इस क्षेत्र में लोग पहले बीमार रहते थे, क्योंकि साफ-सफाई नहीं रखते थे। समय पर नहीं नहाना, कपड़े गन्दे पहनना, असंतुलित भोजन करना आदि के कारण बीमार होते थे। लेकिन जब से एकल विद्यालय चलने लगा, उसके साथ आरोग्य योजना के द्वारा ग्राम वालों को साफ-सफाई का महत्व समझाया गया। अपने घर को किस तरह साफ सुथरा रखा जाये, कचरे को कचरा गड्डा में ही डाला जाये, खुले में नहीं डालें। नाली में बहते पानी के लिए सोख्ता गड्ढा बनाया जाए। पानी उबाल कर पीना स्वास्थ्य शिक्षा के सामान्य नियमों की जानकारी आदि ग्राम वालों को दी। कुछ दिनों में ही यह बुराई गांव से चली गई। 
प्रति सप्ताह महिलाओं द्वारा आम रास्ते को स्वच्छता अभियान के द्वारा साफ किया जाता है। अब यह ग्राम साफ सुथरा रहता है। अब यहां के लोग बहुत कम बीमार पड़ते हैं। सभी स्वस्थ रहते हैं। और साफ-सफाई में सभी सहयोग भी करते हैं।

News Source
Ekal Parinam Prasang

What do you think?

More from Bharat Mahan