Ekal's Mobile Computer Lab In Jharkhand Villages

डिजिटल इंडिया का सपना पूरा कर रहा एकल कम्प्यूटर लैब

       एक गाँव मुरहातु चक्रधरपुर से लगभग 10 कि०मी० दुर की यह घटना है । इस गाँव का प्राकृतिक वातावरण मानो हिमालय का रूप दिखाई देता है । जंगलों के बीच एक तालाब के पास बड़ेे पेड़ के नीचे एकल कम्प्यूटर लैब, निश्चित समय पर पहुंचकर साथ ही उसी निर्धारित समय में गाँव के 20-25 नौजवान युवक-युवतियाँ भी उपस्थित रहते हैं। इसके पीछे भी किसी की इच्छा शक्ति है वो शक्स श्री साधू चरण स्वंय 5 कि०मी० एक गाँव जहाँ Ekal on Wheel आती थी, वहाँ जाकर कम्प्यूटर सीखते थे। इनके आग्रह और आवश्यकता को देखते हुए, इस गाँव का चयन किया गया। आश्चर्य की बात तो यह है कि, यहाँ के युवक-युवतियों और  श्री साधू चरण के बीच का तालमेल देखकर प्रसन्नता हुई । इस गाँव के जो 24 युवक-युवती वर्तमान में एकल कम्प्यूटर लैब में पढ़ रहे हैं, इसमें से किसी ने भी कभी कम्प्यूटर का माउस तक नही पकडा था, और इतना ही नही कभी इन्होंने कल्पना भी नही की थी कि वो कम्प्यूटर सिखेंगे। एकल कम्प्यूटर लैब आने के बाद कम्प्यूटर सिखने कि जिज्ञासा पैदा हुई ।

इन प्रशिक्षार्थीयों ने आत्मविश्वास के साथ जो सीखा, उसका बखान ऐसे कर रहे थे, जैसे बहुत पहले से कम्प्यूटर में कार्य कर चुके हों । इसी गाँव के मुंडा श्री साधु चरण स्वंय ने भी पूर्व में एकल कम्प्यूटर लैब से सीखा था, गाँव में भी युवाओं को सिखने हेतु प्रेरणा दिया। साथ ही इन्होंने ये भी कहा कि सरकार के डिजिटल इंडिया का सपना एकल कम्प्यूटर लैब के माध्यम से एकल अभियान वास्तविक रूप से गाँव-गाँव जाकर कर रहा है। मैं हृ्दय से बधाई देता हूँ । एकल कम्प्यूटर लैब ने हमारे गांव के नौजवानों को प्रशिक्षण दे रहा है यह गौरव की बात है एवं आग्रह किया है कि जो शेष बचे युवक-युवतियों को सिखाने हेतु इस गांव में कम्प्यूटर लैब पुनः लाने का आग्रह किया।

कुबेर सिंह सूर्यवंषी की गांव मुरहातु से रिपोर्टट

Comments

What do you think?

More from Bharat Mahan