Jharkhand Village Simarkundi - Where Everyone Is Self-Reliant

This is the story of a village Simarkundi, a little away from Koderma in Jharkhand. The village is located in the naxal area and had all sort of problems that such villages face, but today all the 250 residents can boast of being self-reliant. This village also boasts of implementing complete prohibition. Its an example that others can follow.

कभी इस गांव में माओवादियों का आतंक था. गांव में आने-जाने के लिए संपर्क पथ नहीं था. माओवादी किसी भी समय आकर खाना, तो कभी संगठन के लिए बच्चे तक की मांग कर दबाव बनाते थे. तमाम समस्याओं के बीच लोग जंगल का जंगल काट अपनी आजीविका चलाते थे, पर आज इस गांव में हर तरफ रौनक है. 

सरकारी योजनाओं में भ्रष्टाचार पूरी तरह वर्जित है, वर्षों से इस गांव का कोई विवाद थाने नहीं पहुंचा. सामान्य सा दिखने वाला कोडरमा जिले के मरकच्चो प्रखंड का सिमरकुंडी गांव. डगरनवां पंचायत का सिमरकुंडी झारखंड का पहला ऐसा गांव है, जहां पूर्ण शराबबंदी के साथ ही नसबंदी का नियम लागू है.

Read more of this excellent report by Vikash in Prabhat Khabar.....

 

News Source
Prabhat Khabar

What do you think?

More from Bharat Mahan