All Women Court In UP Showing The Way

An eleven member bench of elderly educated village women sit and deliver judgement on complaints without the help of any lawyers and no court fee in this area near Allahbad in Uttar Pradesh.

समूह में बैठी महिलाओं की यह जो तस्वीर है, यह दरअसल गांव में लगी नारी अदालत है। 11 महिलाओं की बेंच, वादी- प्रतिवादी, गवाहों की मौजूदगी में महिलाओं से जुड़े मामले में सुनवाई चल रही है। इस अदालत में न तो फीस की आवश्यकता है, न ही वकील की। एक प्रार्थना पत्र पेश करते ही शुरू हो जाती है सुनवाई।

तीन तारीख में निपटान: उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद के दो विकासखंड सोरांव व शंकरगढ़ में इसके तहत महिला अदालतें लगाई जा रही हैं। गांव की बुजुर्ग व पढ़ी-लिखी महिलाएं गांव की महिलाओं से जुड़े मामलों को आपसी सूझबूझ से हल करती हैं। मामलों को तीन तारीख में निपटाने का प्रयास किया जाता है। निस्तारित मामलों की रिपोर्ट लखनऊ स्थित महिला समाख्या के राज्य मुख्यालय पर भी भेजी जाती है।

ऐसे करती हैं काम : सदस्य गांवों में बैठक कर ऐसी अधिक आयु की थोड़ी बहुत पढ़ी महिलाओं को चुनते हैं, जो अपने विवेक और सामाजिक अनुभव से पक्षों को सुनकर इंसाफ दे सकें।

Read more of this excellent report by Manish Mishra published in Jagran....

News Source
Jagran.com

What do you think?

More from Bharat Mahan