Sanitary Napkin Vending Machines In Rajasthan Schools

Bharat Mahan

In Rajasthan, under the government's CSR wing, sanitary napkin vending machines and incinerators are being installed in girls schools. Three such systems have been installed in the Jaipur district. After receiving positive feed back from these 3 schools, the government has decided to install this in 100 schools of the district, under CSR initiative.  

Earlier, on 8th December this year, on this web site news was posted of 10 such vending machines & incinerators being installed in 10 girls school in Hazaribagh district of Jharkhand. The link to this is http://bharatmahan.in/positive-news/sanitary-napkin-vending-machines-hazaribaghs-10-girls

राज्य सरकार के कारपोरेट सोशियल सिक्योरिटी विभाग द्वारा सीएसआर के दायरें में आ रही कंपनियों के सहयोग से सीएसआर गतिविधियों के तहत लोककल्याणकारी कार्यक्रमों को अमली जामा पहनाया जा रहा है। इसी कार्यक्रम के तहत बालिकाओं की सुविधाओं के लिए सीएसआर गतिविधियों के तहत मयूर यूनिकोटर्स द्वारा जयपुर जिले के 3 राजकीय स्कूलों में सैनेटरी नैपकिन उपलब्ध कराने के साथ ही उनके निष्पादन के लिए सैनेटरी नैपकिन इन्सीनिरेटर उपलब्ध कराया गया है जिससे उपयोग में ली हुई नैपकिन का भी वैज्ञानिक व सुरक्षित तरीके से निष्पादन हो सके। हांलाकि बालिकाओं के माध्यमिक स्कूलों में सरकार द्वारा भी इस तरह के प्रयास किए जा रहे हैं पर सरकार की अपनी सीमाओं को देखते हुए राज्य में कार्यरत उद्योगों के सीएसआर कोष के सहयोग से इस तरह की गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जाने लगा है।विद्यालयों में सेनेटरी नैपकिन के वितरण के साथ इसका निस्तारण भी सिखलाया जाना आवश्यक है। वास्तव में उपयोग में लिए गए सेनेटरी नैपकिन को इधर-उधर डिस्पोज करने से संक्रमण व बीमारी का खतरा बना रहता है। समाज में इसके प्रति अनेकों भ्रांतियां भी विद्यमान रही है।

ये 3 राजकीय विद्यालयों हैैं - राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय ढोढसर, राधास्वामी राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय और राजकीय माध्यमिक विद्यालय जैतपुरा में छात्राओं की सुविधा के लिए शौचालयों मे इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर लगाए गए हैं जो कि पूर्ण रूप से सुरक्षित एवं आसानी से संचालित होने वाले है। इन इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर द्वारा उपयोग मे लाए गए सेनेटरी नैपकिन का व्यवस्थित निस्तारण किया जा सकता है। राज्य सरकार के प्रोत्साहन व तीनों स्कूलों में सफल प्रयोग के बाद अब जिले के 100 राजकीय बालिका विद्यालयों में सैनेटरी नैपकिन वितरण और सैनेटरी नैपकिन इन्सीनेरेटर लगाने का निर्णय लिया गया है। इससे बालिकाओं को विद्यालय में भी सुविधा और बेहतर माहौल मिल सकेगा। 

सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि छात्राओं द्वारा सेनेटरी नैपकिन एवं इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर का उपयोग किया जाए क्यों कि छात्राओं के पास मासिक धर्म से संबंधित सही जानकारी का अभाव रहता है। कई प्रचलित भ्रांतियों के चलते वे इस विषय पर बात करने मे शर्म महसूस करती हैं और माहवारी के दौरान विद्यालय आना बंद कर देती है। इन भ्रांतियों को दूर करने एवं व्यक्तिगत स्वच्छता का महत्व समझाने के लिए मयूर यूनिकोटर्स ने रोटरी क्लब जयपुर मिडटाउन के साथ मिलकर विद्यालयों की छात्राओं को प्रशिक्षित किया और उनकी समस्याओं और निदान के बारे में चर्चा की। इस दौरान मयूर यूनिकोटर्स ने सभी छात्राओं कोे सेनेटरी नैपकिन भी उपलब्ध कराए। आज इन विद्यालय की छात्राओं द्वारा सेनेटरी नैपकिन एवं इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर का समुचित उपयोग किया जा रहा है। इन तीन राजकीय विद्यालयों मे इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर के सफल प्रयोग के बाद मयूर यूनिकोटर्स द्वारा क्षेत्र के 100 राजकीय विद्यालयों को आगामी सत्र में इलेक्टि्रक इन्सीनेरेटर उपलब्ध कराए जाएंगे।
राज्य के उद्योग आयुक्त व सीएसआर सचिव श्री कुंजी लाल मीणा बारी बारी से कंपनियों की बैठक लेकर सीएसआर गतिविधियों को बढ़ावा देने के प्रयास कर रहे हैं इसी दिशा में कदम बढ़ाते हुए सीमेंट व अन्य कंपनियों के सहयोग से गरीब व हौनहार बच्चों को उच्च तकनीकी अध्ययन के लिए राशि उपलब्ध कराने का नवाचार भी शुरु कराने का निर्णय लिया गया है।

News Source
DIPR Rajasthan

What do you think?

More from Bharat Mahan