National Portal For Transgender Persons Launched

इस समाचार को हिन्दी में पढ़े आगे...

Union Minister for Social Justice & Empowerment Thaawarchand Gehlot e-launched a ‘National Portal for Transgender Persons’ and e-inaugurated a ‘Garima Greh: A Shelter Home for Transgender Persons’ in Vadodara, Gujarat on Wednesday.

Addressing on the occasion Thaawarchand Gehlot said that this National Portal for Transgender Persons has been developed within 2 months of Notification of Transgender Persons (Protectionof Rights) Rules, 2020 on 29 September, 2020. This highly useful Portal would help a transgender person in applying for a Certificate and Identity card digitally from anywhere in the country. The most important benefit is that it helps the transgender person to get the I-Card without any physical interface and without having to visit any office, the Minister said.

Through the Portal, they can monitor the status of their application that ensures transparency in the process. The issuing authorities are also under strict timelines to process the applications and issue certificates and identity cards without any necessary delays. Once the Certificate and I-card are issued, the applicant can download them from the Portal itself. In case of delay or rejection, the applicant has the options to submit grievances through the Portal which are forwarded to the concerned person and will be resolved at the earliest. The Issuing authorities through the Dashboard provided to them can view the number of applications received, the applications approved and the applications which are pending or put on hold so that they can take the required necessary action from their end. He hoped that this portal will help a lot of people from the community to come forward and get Transgender Certificate and Identity Cards as per their self-perceived identity which is an important provision of The Transgender Persons (Protection of Rights) Act, 2019.

Gehlot said that ‘Garima Greh: A Shelter Home for Transgender Persons’ e-inaugurated today in Vadodara, Gujarat will be run in association with Lakshya Trust, a Community based organisation entirely run by the Transgenders. The purpose of the Shelter Home is to provide shelter to Transgender persons, with basic amenities like shelter, food, medical care and recreational facilities. Besides, it will provide support for the capacity-building/skill development of persons in the Community, which will enable them to lead a life of dignity and respect.

Image removed.

The Transgender Persons (Protection of Rights) Act, 2019 came into effect on 10th January 2020 which is the first concrete step towards ensuring welfare of Transgender persons. To implement the provisions of the Act the Ministry of Social Justice & Empowerment issued the Transgender Persons (Protection of Rights) Rules, 2020 which have been notified in the Gazzette of India.  The Rules ensure that comprehensive welfare measures reach the Transgender Community and help them come into the mainstream of the Society. The right to self-perceived gender identity and the procedure to issue the Transgender certificate and Identity card has been defined in the Rules. The process has been made smooth and hassle free to ensure that Transgender persons are able to attain their self-perceived identity card without any inconvenience.

The Scheme of ‘Shelter Home for Transgender Persons’ includes shelter facility, food, clothing, recreational facilities, skill development opportunities, yoga, meditation/prayers, physical fitness, library facilities, legal support, technical advise for gender transition and surgeries, capacity building of trans-friendly organizations, employment and skill-building support, etc. The Nodal Ministry has taken the first step in improving the conditions of Transgender persons and has identified 10 cities to set up the 13 Shelter Homes and extend the facilities to Transgender persons, in association with selected 13 CBOs in the country on pilot basis.  The cities include Vadodara, New Delhi, Patna, Bhubaneswar, Jaipur, Kolkata, Manipur, Chennai, Raipur, Mumbai, etc. The scheme will rehabilitate a minimum of 25 transgender persons in each homes identified by the Ministry.  This is a pilot project, and on its successful completion, similar schemes will be extended to other parts of the country.

‘ट्रांसजेंडर लोगों के लिए नेशनल पोर्टल’ का ई-शुभारंभ

केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने 'ट्रांसजेंडर लोगों के लिए राष्ट्रीय पोर्टल' लॉन्च किया और गुजरात के वडोदरा में एक 'गरिमा गृह : ए शेल्टर होम फॉर ट्रांसजेंडर पर्सन्स' का बुधवार को उद्घाटन किया।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए थावरचंद गहलोत ने कहा कि 29 सितंबर 2020 को  ट्रांसजेंडर व्यक्तियों (अधिकारों का संरक्षण) नियम 2020 की अधिसूचना के दो महीने के भीतर ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए यह राष्ट्रीय पोर्टल विकसित किया गया है। यह अत्यधिक उपयोगी पोर्टल देश में कहीं से भी एक ट्रांसजेंडर व्यक्ति को प्रमाण पत्र और पहचान पत्र के लिए डिजिटल रूप से आवेदन करने में मदद करेगा। मंत्री ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह ट्रांसजेंडर व्यक्ति को किसी भी भौतिक इंटरफेस के बिना और किसी भी कार्यालय जाए बिना आई-कार्ड प्राप्त करने में मदद करता है। पोर्टल के माध्यम से, वे अपने आवेदन की स्थिति की निगरानी कर सकते हैं जो प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करता है। जारी करने वाले अधिकारी भी आवेदनों को संसाधित करने और बिना किसी आवश्यक देरी के प्रमाण पत्र और पहचान पत्र जारी करने के लिए सख्त समय-सीमा के तहत आते हैं। एक बार प्रमाण पत्र और आई-कार्ड जारी होने के बाद, आवेदक उन्हें पोर्टल से ही डाउनलोड कर सकते हैं। देरी या अस्वीकृति के मामले में, आवेदक के पास पोर्टल के माध्यम से शिकायत करने का विकल्प होता है जो संबंधित व्यक्ति को भेज दिए जाते हैं और जल्द से जल्द हल हो जाएंगे। जारी किए गए डैशबोर्ड के माध्यम से जारी करने वाले प्राधिकारी उन्हें प्राप्त आवेदनों की संख्या, स्वीकृत किए गए आवेदनों और लंबित या रखे गए आवेदनों को देख सकते हैं ताकि वे अपनी ओर से आवश्यक आवश्यक कार्रवाई कर सकें। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह पोर्टल समुदाय के बहुत से लोगों को आगे आने में मदद करेगा और उनकी स्वयं की कथित पहचान के अनुसार ट्रांसजेंडर प्रमाणपत्र और पहचान पत्र प्राप्त करेगा जो कि ट्रांसजेंडर व्यक्तियों (अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम, 2019 का एक महत्वपूर्ण प्रावधान है।

गहलोत ने कहा कि ‘गुजरात के वडोदरा में आज ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए एक आश्रय स्थल गरिमा गृह का उद्घाटन किया गया है, जो लक्ष्मण ट्रस्ट के सहयोग से चलाया जाएगा जो पूरी तरह से ट्रांसजेंडरों द्वारा संचालित एक समुदाय आधारित संगठन है। आश्रय स्थल का उद्देश्य ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को आश्रय प्रदान करना है, जिसमें आश्रय, भोजन, चिकित्सा देखभाल और मनोरंजन जैसी बुनियादी सुविधाएं हैं। इसके अलावा, यह समुदाय में व्यक्तियों के क्षमता-निर्माण/कौशल विकास के लिए सहायता प्रदान करेगा जो उन्हें सम्मान और सम्मान का जीवन जीने में सक्षम बनायेगा।

ट्रांसजेंडर व्यक्तियों (अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम, 2019 10 जनवरी 2020 को प्रभावी हुआ जो ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के कल्याण को सुनिश्चित करने की दिशा में पहला ठोस कदम है। अधिनियम के प्रावधानों को लागू करने के लिए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों (अधिकारों का संरक्षण) नियम, 2020 जारी किए, जिन्हें भारत के राजपत्र में अधिसूचित किया गया है। नियम यह सुनिश्चित करता है कि व्यापक कल्याणकारी उपाय ट्रांसजेंडर समुदाय तक पहुंचें और उन्हें समाज की मुख्यधारा में आने में मदद करें। स्व-कथित लिंग पहचान का अधिकार और ट्रांसजेंडर प्रमाणपत्र व पहचान पत्र जारी करने की प्रक्रिया को नियमों में परिभाषित किया गया है। यह सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रिया को सुचारु और परेशानी मुक्त बनाया गया है कि ट्रांसजेंडर व्यक्ति बिना किसी असुविधा के अपने स्व-कथित पहचान पत्र प्राप्त कर सकें।

'ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए आश्रय गृह' की योजना में आश्रय सुविधा, भोजन, कपड़े, मनोरंजन सुविधाएं, कौशल विकास के अवसर, योग, ध्यान/प्रार्थना, शारीरिक फिटनेस, पुस्तकालय सुविधाएं, कानूनी सहायता, लिंग परिवर्तन और सर्जरी के लिए तकनीकी सलाह, ट्रांस-फ्रेंडली संगठनों के लिए क्षमता निर्माण, रोजगार और कौशल-निर्माण सहायता, आदि शामिल हैं। नोडल मंत्रालय ने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों की स्थितियों में सुधार करने के लिए पहला कदम उठाया है और प्रायोगिक आधार पर देश में चयनित 13 सीबीओ के सहयोग से 13 शेल्टर होम्स स्थापित करने और ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए सुविधाओं का विस्तार करने के लिए 10 शहरों की पहचान की है। शहरों में वडोदरा, नई दिल्ली, पटना, भुवनेश्वर, जयपुर, कोलकाता, मणिपुर, चेन्नई, रायपुर, मुंबई आदि शामिल हैं। यह योजना मंत्रालय द्वारा चिन्हित प्रत्येक घरों में न्यूनतम 25 ट्रांसजेंडर व्यक्तियों का पुनर्वास करेगी। यह एक पायलट प्रोजेक्ट है और इसके सफल होने पर देश के अन्य हिस्सों में इसी तरह की योजनाओं को विस्तार दिया जाएगा।

News Source
PIB Release

What do you think?

More from Bharat Mahan