Uttar Pradesh

All Women Court In UP Showing The Way

An eleven member bench of elderly educated village women sit and deliver judgement on complaints without the help of any lawyers and no court fee in this area near Allahbad in Uttar Pradesh. समूह में बैठी महिलाओं की यह जो तस्वीर है, यह दरअसल गांव में लगी नारी अदालत है। 11 महिलाओं की बेंच, वादी- प्रत

German Woman Turns Saviour For Sick, Abandoned Cows In Mathura

As many as 1,200 cows – mostly abandoned, sick and injured – have found a saviour in 59-year-old German national Friederike Irina Bruning. When she landed in India from Berlin in 1978 as a tourist, she had no inkling of the life destiny had in store for her. “I came as a tourist and understood that

11 'Divyangs' Join To Form Agri Company

11 Divyangs of Maharajganj in UP have formed a small agricultural manufacturing company primarily for sale of chemical-free, organic, produce. Read more... उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले के 11 दिव्यांगों ने साथ मिलकर अंश लघु कृषक उत्पादक कंपनी लिमिटेड की स्थापना की है। इन दिव्यांगों ने एक शानदार मिस

Additional Assistance Of Rs.12,000 For Toilet In UP Cities

City governments in Uttar Pradesh will provide an additional assistance of Rs.12,000 per each individual household toilet to be built in the urban areas of Uttar Pradesh to enable all the 655 statutory cities and towns in the State become ‘Open Defecation Free (ODF)’ by October, 2022, under Swachh B

Effective Organic Pesticides Developed In Kanpur

फल, सब्जी और अनाज में लगने वाले कीटों को मारने के साथ फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले रासायनिक कीटनाशक की जगह अब जैविक कीटनाशक लेंगे। यहां के दयानंद गल्र्स डिग्री कॉलेज की जीव विज्ञान की प्रोफेसर डॉ. सुनीता आर्य ने दूब घास, तंबाकू, कंडे की राख और मैदा की मदद से ऐसे जैविक कीटनाशक तैयार किए हैं जो केवल

A School For Divyangs - A Hope For Many

डॉ दीक्षित ने 27 वर्ष पूर्व शहर के दिव्यांग बच्चों के हुनर के चर्चे सुने तो उन्हें और निखारने के लिए बिठूर कला में विद्यालय की स्थापना की। ज्योति बालक विकास संस्था के बैनर तले वर्ष 1990 में जब विद्यालय शुरू हुआ तो सिर्फ दो दिव्यांग बच्चे आए पर आज विद्यालय में प्री- प्राइमरी से इंटरमीडिएट तक के बच्चो