Jharkhand

अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनने की संभावना देवघर हवाई अड्डे में

प्रथम व्यावसाईक उड़ान कल, सांसद राजीव प्रताप रुडी और कैप्टन आशुतोष शेखर होंगे विमान के कप्तान · इंडिगो का 6E-6191 विमान लेकर दिल्ली से 2.45 बजे देवघर पहुंचेंगे रुडी · मानक ऊँचाई पर पायलटों के मार्गदर्शन के लिए RNP और PAPI की तकनीकी सुविधा उपलब्ध · रुडी ने कहा, हो सकता है एयपोर्ट का प्रसार, कालांतर

विश्व के 600 यूनिवर्सिटी में पढ़ाई जा रही चक्रधरपुर के डॉ जयदीप सरकार की लिखी किताब

पश्चिमी सिंहभूम जिले के चक्रधरपुर निवासी डॉ जयदीप सरकार पर केवल चक्रधरपुर को नहीं, बल्कि पूरे देश को नाज है. हमेशा अध्ययन और रिसर्च में लीन रहने वाले डाॅ सरकार की लिखी किताब विश्व के 600 यूनिवर्सिटी में पढ़ायी जाती है. डॉ सरकार ने सेमीकंडक्टर विषय पर किताब लिखी है. यह पुस्तक काफी चर्चित है. इन दिनों

बीआइटी मेसरा के प्रोफेसर ने बनाया कोरोना की जांच के लिए मैटेरियल

बीआइटी मेसरा के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ अभिमन्यु देव ने एक ऐसा मैटेरियल तैयार किया है, जिससे सस्ते में कोरोना की जांच होगी. साथ ही इसी मैटेरियल से कोरोना के इलाज की दवा भी तैयार होगी. डॉ देव ने अगस्त 2020 में इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया था. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय से उनके प्रोजेक्ट को

$112 Million Loan By ADB To Improve Water Supply Infrastructure In Jharkhand

इस समाचार को हिन्दी में पढ़े आगे... The Government of India and Asian Development Bank (ADB) today signed a $112 million loan to develop water supply infrastructure and strengthen capacities of urban local bodies (ULBs) for improved service delivery in four towns in the state of Jharkhand. The

Railways Commissions Wi-Fi At 6,000th Railway Station, In Jharkhand

हिन्दी में यह समाचार आगे पढ़े.... From 1 station to 6000 in 5 years, Railways shows extraordinary speed in expansion of this passenger convenience Indian Railways has commissioned Wi-Fi at 6,000th Railway station. Indian Railway is continuing to extend the Wi-Fi facility at far flanged stations to

Jharkhand Grameen Mela Organised By NABARD Jharkhand

इस समाचार को हिन्दी में पढ़े आगे... NABARD organized “Jharkhand Grameen Mela 2021” in Ranchi from 17th to 20th March 2021. The event was jointly inaugurated by Aradhna Patnaik, IAS, Secretary, Rural Development Department, GOJ and Ashish Kumar Padhi, Chief General Manager NABARD. On this occasion

एकल का छात्र कॉलेज की पढ़ाई के साथ आजीविका भी चला रहा है

This is the story of Deepak Das, son of Govind Das, of village Warmundi in the Nirsa Block of Dhanbad district of Jharkhand. Deepak started his education with Ekal and was its student in 2003-2004. Today this twenty year youth has learnt tailoring from his father, knows computer operations and is

एकल पोषण वाटिका से परिवार का पोषण

Read this in English later... झारखंड प्रांत के एकल विद्यालय ग्राम ईदपाड़ा, संच रामगढ़, अंचल रामगढ़ के भाखुड महतो , 45 वर्षीय, ने 2011 में एकल अभियान द्वारा बताये अनुसार पोषण वाटिका लगायी। इसके फलदार पौधे में आम, अमरूद, नींबू, अनार एवं पपीता लगाया। इसकी देख-रेख भी बेहतरीन तरीके से की। एक साथ यानि वर्ष

झारखन्ड के एक सुदूर गांव की एकल की पुर्व छात्रा नर्स में प्रशिक्षित

Read this news in English also .... एकल विद्यालय की पूर्व छात्रा सुश्री सारूवाला कुमारी 24 वर्षीय ने एकल विद्यालय खेरडीह से पढ़ाई कर स्नातक राजनीतिक विज्ञान की पढ़ाई के साथ-साथ नर्स की पढ़ाई पूरी की है। सुश्री सारूवाला झारखंड प्रदेश के सिल्ली प्रखंड के खेरडीह ग्राम की रहने वाली है। खेतिहर परिवार, यान¥

एकल के आरोग्य प्रकल्प द्वारा बताये घरेलू उपचार से मिल रही है ग्रामवासियों को सफलता

Villagers are getting success with home remedies Through the Ekal’s health wing, Ekal Arogya, training for home remedies being taught in the villages are getting success. As a ray of new hope in the field of health awareness the Ekal health project is moving forward. A small sample of the success

प्रवासी पक्षियों के लिए मसरिया बांध इलाके के पेड़ों में लगेगा कृत्रिम घोंसला

Good news for nature lovers. In Gumla district of Jharkhand, artificial nests for migratory birds will be put on trees of Masaria dam area. All preparations have been made and the work of installing these nests will start from 20th Dec. Read this complete news published in Prabhat Khabar digital on

मलेरिया एवं डायरिया मुक्त 'एकल' गाँव

Read this story of "Taregan Tola" in an Ekal village which has become free of Malaria and Diarrhoea, the dreaded disease in remote areas. All because the Arogya Wing of Ekal convinced all its residents (some 300) to make soak pits, use mosquito nets and keep their area clean. Now every household is

More from Bharat Mahan