रेलवे 'रेलवायर' वाई-फाई 5500 रेलवे स्टेशनों में लाइव हुआ

पूर्व मध्य रेलवे का महुआ मिलन रेलवे स्टेशन 5500वां स्टेशन बना

(English version also given below)

रेलवे ने देश भर के 5500 स्टेशनों पर मुफ्त सार्वजनिक वाई-फाई उपलब्ध कराने का काम सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। पूर्व मध्य रेलवे जोन का महुआ मिलन रेलवे स्टेशन देश का 5500 वां स्टेशन बन गया है, जिसमें मुफ्त सार्वजनिक वाई-फाई है। यह एक अनोखी पहल है क्योंकि यह वाई-फाई नेटवर्क दुनिया के सबसे बड़े वाई-फाई नेटवर्क में से एक है।

रेलवे स्टेशनों को डिजिटल समावेश के केंद्र में बदलने के लिए, भारतीय रेल ने रेलवे स्टेशनों पर मुफ्त हाई-स्पीड वाई-फाई उपलब्ध कराने के लिए, रेल मंत्रालय के तहत एक मिनीरत्न पीएसयू, रेलटेल को अधिदेशित किया। भारत की आर्थिक राजधानी - मुंबई सेंट्रल स्टेशन से जनवरी 2016 में इसकी शुरूआत हुई थी और 46 महीनों के अंतराल में रेलवे ने देश भर के 5500 स्टेशनों पर वाई-फाई सफलतापूर्वक उपलब्ध करा दिया है। सभी रेलवे स्टेशनों (हाल्ट को छोड़कर) में वाई-फाई उपलब्ध कराने का लक्ष्य है। इस हेतु रेलटेल ने परियोजना के कुछ हिस्सों के लिए गूगल, टाटा ट्रस्ट, पीजीसीआईएल जैसे भागीदारों की सेवाएं लीं और 200 स्टेशनों के लिए दूरसंचार विभाग यूएसओएफ से वित्त पोषण भी प्राप्त किया। वाई-फाई रेलवायर के ब्रांड नाम के तहत उपलब्ध कराया जा रहा है।

अक्टूबर 2019 के महीने में सभी स्टेशनों पर ‘रेलवायर’ वाई-फाई सेवाओं में कुल 1.5 करोड़ उपयोगकर्ता लॉगिन हुए जिन्होंने 10242 टीबी डेटा का उपभोग किया। हाई-स्पीड वाई-फाई तक फ्री एक्सेस से ग्रामीण और शहरी भारत के बीच डिजिटल विभाजन को पाटने में मदद मिलेगी। अध्ययन सामग्री डाउनलोड करने के लिए अपने प्रतीक्षा समय का उपयोग करने वाले छात्र, डिजिटल भुगतान लेनदेन के लिए सेवा का उपयोग करने के लिए वाले वेन्डर, नए कौशल सीखने या नेट सर्फिंग करने के द्वारा स्टेशनों पर अपने समय का उपयोग करने वाले दैनिक यात्रियों के लिए मुफ्त वाई-फाई एक वरदान रहा है जो अन्यथा निम्न कनेक्टिविटी मुद्दों से जूझते रहते हैं।

उपयोगकर्ताओं को सर्वश्रेष्ठ इंटरनेट अनुभव प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया रेलवे स्टेशनों पर स्थित रेलवायर वाई-फाई ऐसे किसी भी उपयोगकर्ता के लिए उपलब्ध होगा, जिसके पास काम-काजी मोबाइल कनेक्शन के साथ स्मार्टफोन होगा। वाई-फाई का उपयोग करने के लिए उपयोगकर्ता को स्मार्टफोन पर वाई-फाई मोड पर स्विच ऑन करना होगा और रेलवायर वाई-फाई नेटवर्क का चयन करना होगा। रेलवायर होमपेज स्वचालित रूप से स्मार्टफोन पर दिखाई देता है। उपयोगकर्ता को इस होमपेज पर अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। उपयोगकर्ता को संदेश बॉक्स में एसएमएस के रूप में वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) मिलेगा जो रेलवायर के होम पेज में दर्ज किया जाना है। ओटीपी दर्ज करने के बाद उपयोगकर्ता हाई स्पीड इंटरनेट का उपयोग कर पाएंगे और इंटरनेट ब्राउज़िंग शुरू कर सकते हैं।

Railways 'RailWire' Wi-Fi goes Live in 5500 Railway Stations

Railways has successfully completed the work of providing free public Wi-Fi at 5500 stations across the country. Mahua Milan Railway Station of East Central Railway zone, became the 5500th station in the country to have free public Wi-Fi. This is a unique initiative as this Wi-Fi network is one of the largest Wi-Fi networks of the world.

To transform the Railway stations into the hub of Digital inclusion, Indian Railways mandated RailTel, a Miniratna PSU under Ministry of Railways, to provide free high-speed Wi-Fi at the Railway stations. The journey started in January 2016 from the financial capital of India - Mumbai Central station and in a span of 46 months Railways has successfully provided Wi-Fi at 5500 stations across the country. The mission is to provide Wi-Fi at all Railway stations (except the halt ones). Along the journey, RailTel has roped in partners like Google, Tata Trust, PGCIL for some parts of the project and also got funding from Department of Telecom USOF for 200 stations. The Wi-Fi is being provided under the brand name of RailWire.

The month of October 2019 saw total 1.5 crores of user logins in ‘RailWire’ Wi-Fi services across all stations consuming 10242 TB of data. Free access to high speed Wi-Fi will help in bridging the digital divide between rural and urban India. Students using their waiting time to download study materials, vendors using the service for digital payment transactions, daily passengers using their time at stations learning new skill or surfing net- the free Wi-Fi has been a boon to these people who otherwise suffer from poor connectivity issues.

Designed to offer users the best Internet experience, RailWire Wi-Fi at Railway stations will be available to any user who has a smartphone with working mobile connection for KYC considerations. To use the Wi-Fi the user has to switch on the Wi-Fi mode on the smartphone and select the RailWire Wi-Fi network. The RailWire homepage automatically appears on the smartphone. The user has to enter his or her mobile number on this homepage. The user will get one-time password (OTP) in form of SMS in the message box which has to be entered in the home page of RailWire. After entering OTP Users will be able to access high speed internet & can start internet browsing.

News Source
PIB Release

What do you think?

More from Bharat Mahan